aFreeJobAlert.com : A Free job alerts latest vacancy 2022 Bank near me today notification PDF search

10 12th pass job, govt jobs india central government jobs for graduates, Latest state government vacancy notification, Sarkari naukari result, Today latest sarkari job , sarkari exams, nokari , job website india, army post, Employment News, rrb exams, iti sarkarinaukri, army, airforce navy teaching faculty research defence clerical job, judicial olice job, banking recruitment, bank po notification, govt vacancies india, bank recruitment, govt job in mp up mh cg

31 March, 2022

44 हजार सैलरी होगी आयुष डॉ की मुख्यमंत्री ने दिए आदेश BAMS BHMS salary

  aFreeJobAlert       31 March, 2022

Ayush Doctor salary 2021  आयुष बोर्ड में BAMS, BHMS, BUMS, BNYS, Ayush minister में आते है तो अभी कुुुछ राज्यो ने नियम निकले है  सभी आयुष डॉक्टर की सैलरी से सम्बंधित है

डॉक्टरो की लंबे समय से माग थी उनकी सेलरी बढ़ाने को लेकर तो राज्य सरकार ने संविदा पर कार्यरत आयुष (आयुर्वेद, होमियोपैथ एवं युनानी) चिकित्सकों के मानदेय में वृद्धि करते हुए 44 हजार रुपये प्रतिमाह भुगतान करने का निर्णय लिया है।   


मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने स्वास्थ्य विभाग के प्रस्ताव पर स्वीकृति प्रदान कर दी है। इससे 22 हजार पाने वाले आयुष चिकित्सकों के मानदेय में दोगुनी और 27 हजार पाने वालों के वेतन में 17 हजार की वृद्धि होगी।

 आयुष चिकित्सकों को अब प्राथमिक चिकित्सा केंद्रों में तैनात एलोपैथ चिकित्सकों के समान मानदेय मिलेगा। 

आयुष चिकित्सक एलोपैथ के समान वेतन देने की मांग लंबे समय से कर रहे थे। शनिवार को स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने मानदेय में वृद्धि की घोषणा श्रीकृष्ण मेमोरियल हॉल में आयोजित 21वीं ऑल इंडिया होमियोपैथी कांग्रेस-2018 में की। 

 उन्होंने कहा कि कुछ कागजी प्रक्रिया पूरी करने के बाद इसे जनवरी-2019 तक लागू कर दिया जाएगा। उन्होंने होमियोपैथ चिकित्सा शोध संस्थान के लिए भूमि उपलब्ध कराने एवं दवाओं की खरीद का भी आश्वासन दिया। मुख्य अतिथि पथ निर्माण मंत्री नंद किशोर यादव ने कहा कि आयुष की सभी पैथी एक दूसरे की पूरक है। 

होमियोपैथी चिकित्सा पद्धति पर सभी का बढ़ाता विश्वास इसकी सफलता है। सहकारिता मंत्री राणा रंधीर सिंह ने कहा कि होमियोपैथ समग्र चिकित्सा पद्धति है। 

कार्यक्रम में होमियोपैथ चिकित्सकों ने केंद्र सरकार से होमियोपैथी कॉलेजों की तीन वर्ष में निरीक्षण कराने और निट की जगह पुरानी प्रक्रिया के तहत नामांकन की अनुमति देने की भी मांग की।

logoblog